Autoform India awarded with Top 10 Innovative Brands In Asia

Autoform receives the prestigious 12th Asia Brand Award for innovation and premium products Asiabrand Research and ABAS, one of the most authoritative and influential brand research, evaluation expert think tank in the region, recognised Autoform India with the ‘Top 10 (Industry) Innovative Brands In Asia’ award at the recently held 12th Asia Brand Award Ceremony in Hong Kong.

Siddharth Gandhi, Director, Marketing and Sales for Autoform India received this prestigious award from Asiabrand. Commenting on the award, Siddharth Gandhi, Director, Marketing and Sales for Autoform India said “Our continued delivery of technologically superior products, in addition to outstanding service, led to Autoform India being rewarded. Such recognitions are a step towards our vision of achieving leadership position in India by 2020.”

About Autoform India
Autoform India, part of RP Group an ISO TS/ 16949 certified company came into inception in 1987 and has since been a trusted name in the business of manufacture and sale of premium quality car and bike seat covers and accessories in India. With corporate headquarters in Delhi NCR, Autoform.
India caters to over a 7 countries and 14 OE’s across the globe.

[Hindi] Maruti Suzuki Baleno vs Suzuki Dzire Comparison

आज हम मारुति की नयी डिजायर और बलेनो की तुलना करेंगे, और आपको ये बताएँगे, की कौनसी गाड़ी सस्ती हैं, किसमे ज़्यादा फीचर्स हैं, किसका माइलेज अछा हैं, कौनसी ज़्यादा कम्फर्टेबल हैं इत्यादि.

कीमत और फीचर्स:

डिजायर का VXi मॉडेल, बलेनो ‘डेल्टा’ पेट्रोल से 30,000 रुपय महंगा हैं. लेकिन सस्ती होने के बावजूद बलेनो डेल्टा में डिजायर VXi से कई ज़्यादा फीचर्स हैं, जैसे की पार्किंग सेन्सर्स, ऑटोमॅटिक क्लाइमेट कंट्रोल, एलेक्ट्रिकली फोल्डिंग मिरर्स, रियर डेफ़ोग्गेर और ऑटो-उप अँटी-पिंच ड्राइवर विंडो. डिजायर VXi में बस दो ऐसे फीचर्स हैं, जो बालेनो ‘डेल्टा’ में मौजूद नहीं हैं. वो हैं रियर एसी वेंट और हाइट अड्जस्टबल ड्राइवर सीट.

लेकिन मजेदार बात ये है, की डिजायर VXi ऑटोमॅटिक मॉडेल, बलेनो डेल्टा पेट्रोल-ऑटोमॅटिक मॉडेल से 30,000 रुपय सस्ता हैं. वो इसलिए, के डिजायर में AMT प्रकार का ऑटोमॅटिक गियरबॉक्स इस्तेमल्ल किया गया हैं, और बलेनो में CVT प्रकार का ऑटोमॅटिक गियरबॉक्स मौजूद हैं. उससे क्या फराक पड़ता हैं, ये हम आगे देखेंगे.

Common Features: ABS, Airbags-2, AC, Power Steering, Central Locking by Remote, Power Windows, Electrically Adjustable Mirrors, Stereo: FM, USB, Aux, Bluetooth + 4 Speakers, Steering Wheel Switches

Extra Features in Dzire (VXi): Rear AC Vent, Height Adjustable Driver’s Seat

Extra Features in Baleno (Delta): Parking Sensors, Automatic Climate Control, Electrically Folding Mirrors, Rear Defogger, Auto-up Anti-Pinch Driver’s Window

माइलेज:

डिजायर पेट्रोल का आरई माइलेज हैं 22 किलोमीटर प्रति लीटर और बलेनो का माइलेज हैं 21.4 किलोमीटर प्रति लिटेर. डिजायर डीजल का आरई माइलेज हैं 28.4 किलोमीटर प्रति लिटेर, और बलेनो का माइलेज हैं 27.4 किलोमीटर प्रति लिटेर. रोज के उपयोग में आपको दोनो गाड़ियों से लगबग उतनाही माइलेज मिलेगा.

परफॉर्मन्स:

दोनो गाड़ियों में सुज़ुकी के 1200 सीसी K12 पेट्रोल इंजन, और FIAT के मशहूर 1250 सीसी मल्टिजेट डीजल इंजन का इस्तेमाल किया गया हैं. दोनो गाड़ियों के वजन में भी सिर्फ़ 5-10 किलो का अंतर हैं. इसके कारण दोनो गाड़ियों का पिक-उप, टॉप स्पीड और स्मूथनेस भी, बिलकुल एक जैसा हैं.

लेकिन दोनो गाड़ियों के ऑटोमॅटिक मॉडेल्स में बहुत बड़ा फराक हैं. बलेनो का CVT गियरबॉक्स डिजायर के AMT गियरबॉक्स से बहुत ज़्यादा स्मूथ हैं, ख़ास कर हुमारे ट्रॅफिक से भरे, शहरी रास्तों पे. लेकिन बलेनो CVT हाइवे पे चलाने के लिए बिल्कुल भी उपयुक्त नही हैं. उसमे रब्बर-बॅंड इफ़ेक्ट की समस्या हैं. रब्बरबॅंड एफेक्ट का मतलब हैं, CVT वाली गाड़ियों में एक्सेलरेटर पूरा दबाने पे भी, सिर्फ़ इंजन तेज़ी से घूमने लगता हैं, लेकिन गाड़ी की रफ़्तार बढ़ने में बहुत समय निकल जाता हैं. इसके कारण ओवरटेक करते समय पर्याप्त पिक-अप नहीं मिलता. लेकिन डिजायर के AMT गियरबॉक्स में, आपको पिक-अप में और माइलेज में कोई समझोता नहीं करना पड़ता.

भीतरी जगह और कंफर्ट:

पुरानी डिजायर के मुक़ाबले मारुति ने नये डिजायर की अंदरूनी जगह में काफ़ी सुधारणा की हैं. लेकिन फिर भी डिजायर में बलेनो जितनी जगह नहीं हैं. डिजायर बलेनो से थोड़ी कम चौड़ी होने के कारण और उसका व्हीलबेस बलेनो से 70 मिलीमीटर छोटा होने के कारण बलेनो में डिजायर से थोडिसी ज़्यादा जगह उपलब्ध हैं. बलेनो का तीनसौ उन्तलीस लीटर का बूट, उसकी सेगमेंट में सबसे विशाल बूट हैं, लेकिन डिजायर का तीनसौ छिहत्तर लीटर का बूट उससे भी लगबग 40 लीटर बड़ा हैं. डिजायर के इंटीरियर्स भी बलेनो से ज़्यादा आकर्षक लगते हैं.

Length: Dzire – 3995, Baleno – 3995

Width: Dzire – 1735, Baleno – 1745

Height: Dzire – 1515, Baleno – 1510

पकड़ और सस्पेंशन:

बलेनो का व्हीलबेस लंबा होने के कारण वो डिजायर से ज़्यादा संतुलन से चलती हैं, और गड्ढों को बेहतर सोख लेती हैं. दोनो ही गाड़ियाँ मोडों पे अछी पकड़ बनाए रखती हैं और अछा नियंत्रण दर्शाती हैं. लेकिन डिजायर का एकसौ तिरसठ MM ग्राउंड क्लियरेन्स बलेनो के 170 MM ग्राउंड क्लियरेन्स से थोडासा कम होने के कारण, वो अपने देश के खुरदरे रास्तों के लिए, बलेनो जितनी मुनासिब नहीं हैं.

क्वालिटी और सर्विस:

जैसा की हम ने पिछले तीस साल में देखा हैं, सुज़ुकी की गाड़ियाँ बेहत टिकाऊ और भरोसेमंद होती हैं. फ़र्क इतना ही हैं की बलेनो सिर्फ़ नेक्सा शोरूम्स में उपलब्ध हैं और डिजायर मारुति के देश भर की सारी शोरूम्स में उपलब्ध हैं. अगर आप छोटे शहरों में रहते हैं तो आप को डिजायर का सर्विस सेंटर आसानी से मिल जाएगा, लेकिन बलेनो का सर्विस सेंटर ढूँदने में कठिनाई हो सकती हैं.

अंतिम निर्णय:

दोनो गाड़ियाँ एक दूसरे को अछी टक्कर देती हैं. दोनो में अच्छे फीचर हैं, अछा पिक-अप हैं, माइलेज अछा हैं, भरोसेमंद हैं, स्मूथ हैं और कंफर्ट भी बढ़िया हैं. लेकिन अगर आप ध्यान से देखेंगे, तो समान कीमत वाली बलेनो में या तो डिजायर से ज़्यादा फीचर्स हैं, या फिर वो समान फीचर्स वाली बलेनो से लगबग 40,000 रुपय सस्ती हैं. तो यदि आप मनुअल गियर वाला मॉडेल लेने की सोच रहे हैं, तो डिजायर के बजाय बलेनो आप के लिए बेहतर विकल्प हैं.

लेकिन अगर आप ज़्यादा तार ट्रॅफिक से भारी हुई सड़कों पे गाड़ी चलते हैं, तो हमारी आपसे ये सिफारिश हैं की आप डिजायर आMट के बारे में ज़रूर विचार करें. ये आपको रोज रोज की अविरत क्लच-गियरबॉक्स रगड़ने की तकलीफ़ से छुटकारा दे सकता हैं. तो दोस्तों डिजायर AMT हमारे इस तुलना की साफ़ साफ़ विजेता हैं.

[Hindi] Maruti Suzuki New Dzire 2017 vs Suzuki Ertiga Review

नई डिजायर २०१७ vs अर्टिगा तुलना

आज हम मारुति की नई डिजायर और अर्टिगा की तुलना करेंगे. माना की दोनो अलग सेगमेंट की गाड़ियाँ हैं, लेकिन जिन ग्राहकों का बजेट 9 लाख रुपय की आस-पास हैं, उनके मान में ये दुविधा हो सकती हैं, की डिजायर का टॉप-एंड मॉडेल लेना चाहिए, या लगबग उसी कीमत में 7-सीट र अर्टिगा का ‘ZXi’ मॉडेल ज़्यादा उपयोगी पर्याय रहेगा? इस सवाल का सही जवाब पाने के लिए पढ़ते रहिए अर्टिगा vs डिजायर कारकमपेरो.

कीमत और फीचर्स:

डिजायर ZXi-प्लस मैन्युअल की कीमत हैं साडे-नौ लाख रुपय, ऑन-रोड मुंबई. अर्टिगा ZXi की कीमत हैं 9 लाख अस्सी हज़ार रुपय, जो टॉप-एंड डिजायर से तीस हज़ार रुपय ज़्यादा हैं. डिजायर ZXi+ सस्ती होने के बावजूद उसमे अर्टिगा ZXi से कई ज़्यादा फीचर्स हैं. जैसे LED DRLs, ऑटो-अप अँटी-पिंच ड्राइवर विंडो, अँड्रॉइड ऑटो और एप्पल कारप्ले, ऑटोमॅटिक क्लाइमेट कंट्रोल, LED प्रोजेक्टर हेडलॅंप्स, एलेक्ट्रिकली फोल्डिंग मिरर्स, ऑटोमॅटिक लाइट सेनसिंग हेडलॅंप और ISOFIX पॉइंट्स. डिजायर के टॉप-एंड डीजल-मैन्युअल मॉडेल, ZDi-प्लस की कीमत हैं दस लाख रुपय ऑन-रोड मुंबई. जो अर्टिगा ‘ZDi’ से चालीस हज़ार रुपय सस्ती हैं. अर्टिगा के ‘VXi AT’ ऑटोमॅटिक मॉडेल की कीमत हैं दस लाख चालीस हज़ार रुपय ऑन-रोड मुंबई, जो डिजायर VXi ऑटोमॅटिक-पेट्रोल से 2 लाख बीस हज़ार रुपय महंगी हैं. यहाँ तक की डिजायर ‘VDi AT’ ऑटोमॅटिक डीजल भी अर्टिगा VXi पेट्रोल ऑटोमॅटिक से लगबग एक लाख रुपय सस्ती हैं.

Common Features: ABS, Airbags-2, AC, Power Steering, Central Locking by Remote, Power Windows, Parking Sensors, Parking Camera, Stereo: FM, USB, Aux, Bluetooth + 4 Speakers, Touchscreen, Navigation, , Steering Wheel Switches, Electrically Adjustable & Folding Mirrors, Rear Defogger, Fog Lamps, Alloy Wheels, Rear AC Vents, Push Button Start & Smart Key, Height Adjustable Driver’s Seat

Extra Features in Dzire ZXi+: LED DRLs, Auto-up Anti-pinch Driver’s Window, Android Auto & Apple CarPlay, Automatic Climate Control, LED Projector Headlamps, Electrically Folding Mirrors, Automatic Light Sensing Headlamp, ISOFIX

Extra Features in Ertiga ZXi: none

माइलेज: 

डिजायर के मैन्युअल अथवा ऑटोमॅटिक पेट्रोल मॉडेल्स का आरई माइलेज हैं 22 किलोमीटर प्रति लीटर. अर्टिगा के पेट्रोल-मैन्युअल मॉडेल का माइलेज हैं 17 दशमलव 5 किलोमीटर प्रति लिटेर, और ऑटोमॅटिक मॉडेल का 17 किलोमीटर प्रति लीटर. डिजायर के मैन्युअल अथवा ऑटोमॅटिक डीजल मॉडेल्स का माइलेज हैं 28 दशमलव 4 किलोमीटर प्रति लीटर. अर्टिगा के मैन्युअल-डीजल मॉडेल का माइलेज हैं 24 दशमलव 5 किलोमीटर प्रति लीटर, और अर्टिगा में फिलहाल डीजल-ऑटोमॅटिक का विकल्प उपलब्ध नहीं हैं.

परफॉर्मन्स:

अर्टिगा में चौदासौ सीसी का पेट्रोल इंजन हैं, जो डिजायर के इंजन से दो सौ सीसी बड़ा हैं. लेकिन अर्टिगा का वजन, डिजायर से लगबग तीन सौ किलो भारी हैं. इस वजह से डिजायर का पिक-अप अर्टिगा से काफ़ी बेहतर है. अर्टिगा-पेट्रोल में पारंपरिक 4-स्पीड ऑटोमॅटिक ट्रॅन्समिशन का पर्याय भी उपलब्ध हैं, लेकिन डिजायर मे आधुनिक 5-स्पीड AMT गियरबॉक्स दिया गया हैं. अर्टिगा का पारंपरिक गियरबॉक्स डिजायर के AMT से थोडासा स्मूथ ज़रूर हैं लेकिन, पिक-अप, माइलेज और मेंटेनन्स के मामले में डिजायर का AMT उससे कई ज़्यादा श्रेष्ठ हैं. दोनो गाड़ियों में FIAT का बारासौ पचास सीसी मल्टिजेट डीजल इंजन मौजूद हैं. फरक बस इतना ही हैं, की अर्टिगा में उसे वेरिएबल जियामेट्री टर्बोचारजर बिठाया गया हैं, जिसके कारण वो नब्बे हॉर्स्पवर देता हैं, और डिजायर में फिक्स्ड जियामेट्री टर्बो हैं, जो पिछत्तर हॉर्सपॉवर देता हैं. लेकिन अर्टिगा डीसल, डिजायर से दो सौ सत्तर किलो भारी होने के कारण, उसका पिक-अप डिजायर से काफ़ी कमजोर लगता हैं.

Petrol:

Power: Dzire – 83@6000, Ertiga – 92@6000

Torque: Dzire – 113@4200, Ertiga – 130@4000

Kerb Weight: Dzire – 895, Ertiga – 1175

Power-to-weight: Dzire – 93, Ertiga – 78

Torque-to-weight: Dzire – 126, Ertiga – 111

Diesel:

Power: Dzire – 75@4000, Ertiga – 90@4000

Torque: Dzire – 190@2000, Ertiga – 200@2000

Kerb Weight: Dzire – 990, Ertiga – 1260

Power-to-weight: Dzire – 76, Ertiga – 71

Torque-to-weight: Dzire – 192, Ertiga – 159

भीतरी जगह और कंफर्ट:

अर्टिगा 7-सीटर गाड़ी हैं और डिजायर 5-सीटर, यह तो आप जानते ही हैं. लेकिन अर्टिगा में समस्या ऐसी हैं, की अगर आप सात लोगों को गाड़ी में बिठाते हैं, तो उसमे सिर्फ़ एक्सौ पैंतीस लीटर बूटस्पेस बच जाती हैं. जिसमे आप मुश्किल से दो बॅग्स रख पाएँगे. अगर आप पिछला सीट फोल्ड कर देते हैं तो बूट-स्पेस चरसौ अस्सी लीटर हो जाती हैं, लेकिन फिर अर्टिगा का मज़ला सीट, उसके सबसे कम लेग-रूम वाले स्थिति में लॉक हो जाता हैं. अगर पांच लोग और समान ही लेकर यात्रा करनी हो, तो उसके लिए डिजायर ज़्यादा उचित पर्याय हैं. उसमें यात्रियों के लिए ज़्यादा नी-रूम और लेग-रूम हैं और वो अर्टिगा से चौड़ी होने के कारण उसकी पिछली सीट पे तीन यात्री, ज़्यादा आराम से बैठ पाते हैं. इतना ही नहीं, अर्टिगा की तीसरी पंक्ति लेग-रूम के अभाव की वजह से, सिर्फ़ छोटे बच्‍चों के लिए ही पर्याप्त हैं.

Length (mm): Dzire – 3995, Ertiga – 4296

Width (mm): Dzire – 1730, Ertiga – 1695

Height (mm): Dzire – 1515, Ertiga – 1685

Bootspace (lit): Dzire – 376, Ertiga – 135 (all seats up), 480 (3rd row folded)

पकड़ और सस्पेन्षन:

अर्टिगा का व्हीलबासे डिजायर से लगबग तीन सौ MM लंबा हैं. उसका सस्पेन्षन भी डिजायर से ज़्यादा नरम हैं. इसके कारण अर्टिगा गड्ढों को डिजायर से काफ़ी बेहतर सोख लेती हैं. अर्टिगा का एक सौ पिचासि MM का ग्राउंड क्लियरनस भी डिजायर से बाईस MM उँचा हैं, जिसके कारण वो हुमारे देश की उबड़खाबाड़ रास्तों के लिए डिजायर से ज़्यादा उचित हैं. लेकिन डिजायर अर्टिगा की तुलना में ज़्यादा चपलता से दिशा बदल करती हैं, इसलिए घुमावदार सड़कों पे डिजायर चलाने में ज़्यादा मज़ेदार लगती हैं.

Ground Clearance (mm): Dzire – 163, Ertiga – 185

Wheelbase (mm): Dzire – 2450, Ertiga – 2740

क्वालिटी और मेंटेनन्स:

पिछले तीस साल की मेहनत के बदौलत, मारुति आज देश का सबसे भरोसेमंद कार उत्पादक बन गया हैं. उसके 3000 से अधिक सर्विस सेंटर देश के कोने कोने तक ग्राहकों को सर्विस की उपलब्धता का आश्वासन देते हैं. आज की तारीख में सेकण्ड हॅंड अर्टिगा, समकालीन डिजायर से तकरीबन एक लाख रुपय महंगी पड़ती हैं. लेकिन साल भर में अभी की अर्टिगा बंद हो जाएगी और नयी अर्टिगा मार्केट में आ जाएगी. जिसके कारण पाँच-सात साल बाद आज खरीदी हुई अर्टिगा और डिजायर की कीमत में 30-40 हज़ार से ज़्यादा फ़र्क नहीं रहेगा.

अंतिम निर्णय:

ज़्यादा तार ग्राहक अर्टिगा के बारे में तब सोचते हैं, जब उनके परिवार में 6 या 7 सदस्या होते हैं. अगर ऐसा हैं तो डिजायर के बारे में सोचिए भी मत. लेकिन अगर आपके परिवार में 4 या 5 सदस्या हैं तो आप को अर्टिगा खरीदने का कोई फ़ायडा नहीं हैं. अर्टिगा का सबसे पिछला सीट फोल्ड करने पर, उसके मजले सीट पे बहुत ही कम जगह बच जाती हैं. इसके विपरीत डिजायर में पाँच लोग बिल्कुल आराम से बैठ सकते हैं और उनके समान के लिए पर्याप्त बूट-स्पेस बी उपलाध हैं. पिक-अप, माइलेज और फीचर्स के मामले में भी डिजायर अर्टिगा से काफ़ी बेहतर हैं. अगर आप ज़्यादा तार शहेर में गाड़ी इस्तेमाल करने वाले हैं, तो हुमारा आपसे यह सुझाव हैं की डिजायर का AMT ऑटोमॅटिक मॉडेल एक बार टेस्ट ड्राइव कर के ज़रूर देखिए, वो आपकी रोज की क्लच गियर रगड़ने की परेशानी को मिटा सकता हैं. कुल मिलकर 2017 डिजायर हुमारे इस कंपॅरिज़न की विजेता हैं.

Honda pre-owned Outlet launched in Coimbatore

Honda today inaugurated its landmark 150th ‘Best Deal’ outlet -its exclusive pre-owned two wheeler business at Aadhi Honda, Coimbatore, Tamil Nadu.

Honda 2Wheelers has pioneered the concept of Certified Pre-owned Outlets – ‘Best Deal’ – two-wheeler industry’s first organized retail set-up exclusively for pre-owned two wheelers. These outlets have enabled the company to create more touch-points of interacting with customers and also tap into the huge potential that the pre-owned two-wheeler market offers.

Interestingly in 2017 when new two wheelers industry faced challenges like demonetization and transition from BS-III to BS-IV which lead to a stunted single digit growth, there was a significant boost in demand for pre-owned two wheelers. In financial year 2016-17, sales of Honda’s pre-owned business- Best Deal grew by 23% which is three times that of the new 2wheeler industry growth of only 7%. Supporting this growth, was the rapid network expansion of Best Deal outlets count by 44% to 147 outlets in FY 2016-17.

Elaborating at the inauguration ceremony of 150th Best Deal outlet, Mr. Yadvinder Singh Guleria, Senior Vice President – Sales & Marketing, Honda Motorcycle & Scooter India Pvt. Ltd., said, “With the introduction of the concept of Certified Pre-owned Outlets – Best Deal, Honda has pioneered 2 Wheeler industry’s credible and trust worthy pre-owned business platform. Our experience shows that pre-owned industry is evolving at a very fast pace and the replacement cycle for two-wheeler has come down to 4-5 years. Honda sees good future potential in pre-owned two-wheeler business and has advanced its expansion horizon to 200 Best Deal Outlets by the end of this fiscal itself.”

Bharat Benz Sells 50000 trucks in India

BharatBenz celebrates an important milestone with the customer handover of its 50,000th truck, which marks an unprecedented ramp-up in the Indian commercial vehicle industry. The vehicle, a 4928 TT tractor from the all-new BharatBenz heavy-duty range, was presented at a regional brand event in Hyderabad.

Commenting on the achievement, Mr. Erich Nesselhauf, Managing Director and CEO, Daimler India Commercial Vehicles said: “50,000 truck sales in less than five years – no other new market entrant in India has achieved this before. BharatBenz is today firmly established in the world’s toughest CV market and will continue to push the industry limits in terms of safety features, environmental friendliness and fuel economy.”

Mr. Rajaram Krishnamurthy, Vice President of Sales & Marketing added: “We have seen a very positive growth momentum following the introduction of the new BS-IV standard, and we aim to further capitalize on this. Customers understand our superior BS-IV solution based on proven SCR technology. They also clearly appreciate the host of additional features that our new BharatBenz heavy-duty range offers, true to our ‘Profit Technology’ tagline.”

Honda is now the NEW Number One Selling brand in Tamil Nadu

Honda is now the NEW Number One Selling brand in Tamil Nadu. Honda which is growing in a faster pace compared to industry growth is eyeing No1 position in indian two wheeler market. It has occupied numero one slot in many states in india. Now it has attained the same in Tamil Nadu which happens to be the third biggest market by total volumes and the second biggest market when it comes to automatic scooter sales across India.

Ø Honda is the NEW NO. 1 selling two-wheeler brand in Tamil Nadu
o Honda sales grow by 34% which is much faster than 2% growth of TN industry
o With Highest ever market share of 35%, Now one in every 3 customers is buying a Honda two-wheeler in TN

Sharing how the biggest strategy shift in Honda’s business direction will be executed on ground,
Mr. Minoru Kato – President & CEO, Honda Motorcycle & Scooter India Pvt. Ltd. announced,
“I thank our valued customers who have made Honda the Most preferred brand in Tamil Nadu. 2017-18 is definitely the most challenging year for Honda 2Wheelers India till now. India operation is already the No. 1 contributor to Honda’s global two-wheeler business. This year we are aiming 6.0 million units with 20% growth over the large existing base. Undoubtedly, our aggressive plans for key states including Tamil Nadu will play an important role in contributing to this growth of Honda in India.”

Honda 2Wheelers India goes closer to Tamil Nadu customers through NEW Zonal Office!
Re-aligning with Honda’s vision to expand its reach in India through its ‘closer to market’ approach, Honda 2Wheelers India today inaugurated its new Zonal office in Coimbatore. This is Honda’s next strategic step towards regional consolidation starting from top demand centres across India.

The new Zonal Office in Coimbatore is Honda’s 2nd Zonal office in Tamil Nadu after Chennai. Tamil Nadu is the only state in south region where Honda has 2 zonal offices. As we expand our footprints here, Honda aims to serve new customers with speed. Operating closer to the market supports our endeavor to enhance Customer engagement & experience with Brand Honda. The state of art Honda service training center will ensure technical updates & new product trainings to our network staff in local language.

Honda sells 1.5 crore Activa in India

Honda today said that Activa has achieved a milestone of 1.5 crore unit cumulative sales, and is India’s FIRST scooter to reach this landmark.

Celebrating this feat, Mr. Minoru Kato (President & CEO, Honda Motorcycle & Scooter India Pvt. Ltd.) rolled out the landmark 1,50,00,000th Activa from the assembly line of Honda’s scooter only plant in Gujarat.

Thanking customers and sharing how Honda’s iconic Activa has changed the way Indians ride to fulfil their dreams, Mr. Minoru Kato, President & CEO, Honda Motorcycle & Scooter India Pvt. Ltd. said, “Globally developing markets similar to India, especially Thailand and Indonesia have already shifted to scooterization. Now, India is getting scooterized like never before. In just 7 years, scooter segment contribution to total industry has doubled from 16% (in 2009-10) to 32% (in 2016-17). And leading this trend is Activa which single-handedly re-activated the declining scooter segment way back in 2001 & become the Number One selling two-wheeler both in India and the World! Honda believes that there is huge future potential for scooterization, more so in tier-II and tier-III towns. The trust of Indian families has already made Activa the first scooter in history of Indian two-wheeler industry to cross 1.5 crore customers landmark.”

Tata Motors Safari Storme Officially replaces Indian Army’s Maruti Gypsy

Tata Motors today signed a contract for supply of 3192 units of the Tata Safari Storme 4×4 to the Indian Armed Forces, under a new category of vehicles – General Service 800. The Indian Ministry of Defence had earlier floated an RFP for vehicles with three basic criteria – minimum payload capacity of 800 kgs; hard roofs and air conditioning. Tata Safari Storme triumphed Mahindra Scorpio to won the contract to supply the storme to Indian Army. The Tata Safari Storme 4×4 has completed a total trial duration of fifteen months in various terrains across the country, demonstrating supreme performance in the most demanding conditions with capabilities of coping with extreme on or off-road terrains.

Tata Safari Storme will replace the ageing fleet of Indians Armty’s Maruti Gypsy in the 4×4 light vehicle category,

Commenting on the recently bagged order, Vernon Noronha, Vice President, Defence & Government Business, Tata Motors Limited said, “We are very proud to have received this prestigious order for over 3000 units of the Safari Storme under the newly formed GS800 category. Tata Motors has been a leading supplier of mobility solutions to the Indian Armed Forces and this order is a testimony to our partnership with the country’s security forces. This variant of the Storme has been modified from the one available for civilians with an upgraded drivetrain and significantly modified suspension. The Safari Storme was conceived and designed keeping in mind the need for a rugged, comfortable and reliable vehicle, making it popular with law enforcement agencies. We will shortly commence delivery of these vehicles for the Army and Navy in a phased manner.”

TVS Junks Phoenix 125cc bike

Hit by the falling sales, TVS seems to have discontinued the phoenix 125cc. The bike was a non-starter despite aggressive promotion by the hosur based two wheeler maker. Pitched against the mighty Honda Shine and Her Glamour the bike bombed in the market with very poor sales.

All the TVS bikes and scooters were upgraded to suit the latest BSIV regulation, however, phoenix was left out signalling the end of the motorcycle in the india market. TVS seems to have decided against updating the Phoenix for the Indian market citing poor sales.

However, the TVS  continues to produce the bike for its exports markets. Whether TVS will replace the phoenix with a new product and facelift and market it as a new package, only time will tell. TVS has earlier struggled with 125cc flame. 125cc segment has been elusive for TVS for almost a decade.

Maruti Unveils 3rd generation Dzire

Maruti has revealed the 3rd all-new Maruti Dzire which will be launched in India on 16 May 2017. The company has revealed that the vehicle will come in four trims – LXi/LDi, VXi/VDi, ZXi/ZDi and ZXi+/ZDi+.

The Dzire is3995m long and now has a longer wheelbase (40 mm wider) and offers 20 mm extra front shoulder room and 30 mm extra rear shoulder room. Boot volume has increased from 316 litres to 376 litres.

Maruti has redesigned the seats as well for more comfort and better ergonomics. The cabin is appointed with a new three-layered dashboard, a flat-bottom steering wheel, and new switchgear

Based on the new ‘Heartect’ platform built with ‘ultra-high tensile’ sheet metal, the new Dzire will be safer than the outgoing version. It is designed to comply with new pedestrian safety and side and frontal-offset impact safety regulations that come into effect in India soon. Anti-lock brakes (ABS) and driver and front passenger airbags as standard equipment across the range.

The official launch will happen on May 16